जितनी अधिक ताकत थी अटल जी के भाषण में उतना ही प्रभाव उनकी खामोशी में- नरेंद्र मोदी

खबरें अभी तक। संसद के सेंट्रल हॉल में अटल बिहारी वाजपेयी की तस्वीर का अनावरण किया गया. बता दें कि राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद द्वारा वाजपेयी जी की तस्वीर का अनावरण किया गया. इस मौके पर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी, उप राष्ट्रपति एम वेंकैया नायडू, और अन्य दलों के नेता मौजूद रहे. इसी दौरान प्रधामंत्री नरेंद्र मोदी ने अटल जी की खामोशी और उनके विचारों पर बात करते हुए उनसे कईं बातें सीखने की बात कही, नरेंद्र मोदी ने कहा की अटल जी के बारे में कईं बाते की जा सकती हैं. ऐसे व्यक्ति बहुत कम मिलते हैं. व्यक्तिगत जीवन के हित के लिए कभी अपना रास्ता परिवर्तीत न करना, ये अपने-आप में सार्वजनिक जीवन में हम जैसे कार्यकर्ताओं के लिए बहुत कुछ सीखने जैसा है.

पीएम ने कहा कि वाजपेयी के भाषणों की चर्चा होती है लेकिन उनकी खामोशी आज के समय में मनोविज्ञान की दृष्टि से रिसर्च करने की बात है. जितनी ताकत उनके भाषण में थी, उतना ही अधिक प्रभाव उनकी खामोशी में था. जब सभा में बोलते हुए, वे कुछ पल के लिए खामोश हो जाते थे, तब भी लोगों में संदेश चला जाता था. इस युग में भी कब बोलना है, कब मौन रहना है. यह सीखने जैसा है. प्रधानमंत्री बोले वाजपेयी ने राजनीति में उतार चढ़ाव देखा, हार-जीत हुई लेकिन अपने आदर्शों से कभी समझौता नहीं किया. इसका कभी न कभी परिणाम मिलता है.

Add your comment

Your email address will not be published.