सरकार का उद्देश्य पूंजीपतियों को लाभ पहुंचाना-ओपी चौटाला

ख़बरें अभी तक || इनेलो सुप्रीमो ओम प्रकाश चौटाला सजा पूरी होने के बाद किसान आंदोलन के जरिये पार्टी में जान फूंकने की कोशिश में जुटे हैं। एक तो लम्बे समय से इनेलो सत्ता से दूर है और दूसरा  तीन कृषि कानूनों के विरोध में अभय सिंह चौटाला भी विधानसभा की सदस्‍यता से इस्‍तीफा दे चुके हैं।  जिसके बाद इनेलो का एक भी विधायक नहीं रहा है। ऐसे में ओम प्रकाश चौटाला किसानों के बीच पहुंच रहे हैं और किसानों का समर्थन भी चौटाला को मिलता दिख रहा हैं।

Latest Haryana Breaking News, हरियाणा समाचार | Haryana Express

पलवल में हजारों की संख्या में किसान धरनास्थल पर पहुंचे और चौटाला को समर्थन भी दिया। इस मोके पर इनेलो सुप्रीमो ओम प्रकाश चौटाला के सामने किसानों ने  ना सिर्फ सरकार विरोधी नारे भी लगाए बल्कि भविष्य में बीजेपी को वोट न देने की अपील भी की। इस मौके पर ओम प्रकाश चौटाला ने किसानों को संबोधित करते हुए कहा कि बीजेपी सरकार ने समाज में भाईचारे को तोड़ने का काम किया है। आज किसानों के साथ-साथ हर वर्ग इस सरकार से दुखी है। यह सरकार पूंजीपतियों को लाभ पहुंचाने के लिए कृषि कानूनों को किसानों पर थोपना चाहती है। ये काले कानून हैं जो किसान को बर्बाद कर देंगे।

पोते की सगाई के लिए ओपी चौटाला को मिली एक हफ्ते की पैरोल

चौटाला ने कहा कि वो हमेशा से किसानों के साथ रहे हैं और रहेंगे।इस सरकार में किसानों को ना तो समय पर सिंचाई के लिए पानी मिल रहा है और न ही खाद बीज की सुविधा है न ही समय पर किसानों की फसलों की कीमत मिल रही है। सरकार देश की जनता को सिर्फ जाति और धर्म के नाम पर बांटने का काम कर रही है।

 ओम प्रकाश चौटाला ने कहा की वो 3206 अध्यापकों को नौकरी देने पर 10 साल की जेल काटकर आये हैं। यदि प्रदेश में उनकी सरकार बनती है तो वो प्रदेश के सभी पढ़े-लिखे युवाओं को नौकरी देने का काम करेंगे, चाहे उन्हें फांसी की सजा क्यों न मिले। इस मोके पर सैकड़ों इनेलो कार्यकर्त्ता भी उनके साथ मौजूद रहे। पलवल किसान आंदोलन से जनसभा को समाप्त करने के बाद इनेलो सुप्रीमो गाजीपुर धरने के लिए रवाना हुए।

Add your comment

Your email address will not be published.