नशीला पदार्थ पिलाकर नाबालिग के साथ दुष्कर्म, आरोपी की तलाश में जुटी पुलिस

ख़बरें अभी तक || हरियाणा के पलवल से एक बार फिर शर्मसार कर देने वाला मामला सामने आया है। यहां आठवीं कक्षा की नाबालिग छात्रा को चाकू के बल अगवा कर उसके साथ दुष्कर्म किया गया। बताया जा रहा है कि आरोपी ने पीड़िता को जूस में नशीला पदार्थ पिलाकर उसके साथ दुष्कर्म जैसे घिनौने अपराध को अंजाम दिया है।

इस दौरान आरोपी ने घटना के बारे में किसी को बताने पर पीड़िता और उसके परिवार को जान से मारने की धमकी भी दी। इसके बाद आरोपी यूपी में पीड़ित युवती को उसके मामा के घर के बाहर छोड़कर फरार हो गया। महिला थाना पुलिस ने पीड़िता की शिकायत के आधार पर आरोपी के खिलाफ मामला दर्ज कर छानबीन शुरू कर दी है। लेकिन आरोपी अभी भी पुलिस की गिरफ्त से बाहर है।

वहीं इस मामले में अधिक जानकारी देते हुए महिला थाना प्रभारी रेखा ने बताया कि 14 वर्षीय पीड़िता ने शिकायत दर्ज कराई है कि 8 सिंतबर की रात को वह घर में सोई हुई थी। उसी रात एक बजे के करीब गांव निवासी एक युवक घर के अंदर आया और पीड़िता को जगाया। पीड़िता ने जैसे ही युवक का चेहरा देखा तो उसने चाकू दिखाकर पीड़िता के मुंह को बंद कर दिया और उसे घर के बाहर ले आया।

जिसके बाद उस युवक ने पीड़िता से बाइक पर बैठने को कहा। पीड़िता ने जब मना किया तो युवक ने कहा कि उसने शूटरों को खड़ा कर रखा है जो उसके परिवार को जान से मार देंगे। पीड़िता डर के कारण बाइक पर बैठ गई। युवक पीड़िता को पहले अपने खेतों पर ले गया और फिर पलवल की तरफ ले आया।

पलवल आकर युवक ने एटीएम से कुछ रुपये निकाले। पीड़िता को प्यास लगी तो युवक ने उसे जूस पिलाया। जूस पीने के बाद पीड़िता बेहोश हो गई और जब होश में आई तो उसका सारा बदन दर्द कर रहा था। पीड़िता का आरोप है कि बेहोशी की हालात में युवक ने उसके साथ दुष्कर्म किया है। पीड़िता को नहीं पता था कि वह कहां पर है, उसने सिर्फ बॉर्डर पर फरीदाबाद लिखा देखा था।

उसके बाद युवक पीड़िता को उसके यूपी में उसके मामा के घर के बाहर छोड़कर फरार हो गया। पीड़िता ने मामा के घर जाकर आपबीती बताई। पीड़िता के मामा ने उसके पिता को बुलाया। जिसके बाद पीड़िता के पिता मौके पर पहुंचे और मामले की शिकायत पुलिस को दी गई। फिलहाल पुलिस ने पीड़िता की शिकायत के आधार पर आरोपी के खिलाफ मामला दर्ज कर कार्रवाई शुरू कर दी है।

Add your comment

Your email address will not be published.