निर्भया गैंगरेप केस के दोषी मुकेश सिंह ने राष्ट्रपति को भेजी दया याचिका, खेला अंतिम दांव

ख़बरें अभी तक । निर्भया गैंगरेप केस में दोषी मुकेश सिंह ने फांसी से बचने के लिए अब राष्ट्रपति से दया याचिका की गुहार लगाई है. बता दें कि यह अंतिम दांव है इसके बात मुकेश व अन्य दोषियों के पास और कोई विकल्प नहीं रहेगा . इससे पहले मुकेश सिंह को आज ही सुप्रीम कोर्ट से झटका लगा है. सर्वोच्च अदालत ने सजा को कम करने की याचिका को खारिज किया. मामले में चारों दोषियों को 22 जनवरी को सुबह 7 बजे फांसी पर लटकाया जाएगा. मुकेश ने फांसी से बचने के लिए देश के राष्ट्रपति से अंतिम गुहार लगाई है. दोषियों के पास सारे कानूनी विकल्प समाप्त हो चुके हैं. दोषी मुकेश की दया याचिका राष्ट्रपति के पास है. राष्ट्रपति ने भी अगर दया याचिका खारिज कर दी तो दोषियों की मौत की सजा तय तारीख पर ही मिलेगी. दया याचिका पर अब राष्ट्रपति का फैसला आना बाकी है. संविधान की धारा-72 के अनुसार राष्ट्रपति को ये अधिकार है कि वे सजा माफ कर सकते हैं. इसके लिए उन्हें किसी कारण को बताने की जरूरत नहीं पड़ती है.

Add your comment

Your email address will not be published.